यू.अनुपमा के अनुभव

0

एलुरु से ३७(37) वर्षीय अनुपमा जी सिर और गर्दन को थोडे समय तक भी सीधी नहीं रख पाती थी | उन्हें
गंभीर सनसनी और चक्कर आ जाते थे जैसे कि पूरा वातावरण उनके चारों ओर घूम रहा हो। जिसके वजह से वे
बिस्तर तक ही सीमित रहती थी। जैसे-जैसे समय गुज़रता गया, उनकी समस्या बिगड़ती गई और वह एक ऐसी
अवस्था में पहुँच गई जहाँ उन्हें शौचालय जाने केलिए  अपनी माँ की मदद कि आवश्यकता पडती थी।  woh
निराश होती थी कि उनके आगे का जीवन कैसे गुज़रेगा, और उनके परिवार कि देखभाल कौन करेगा। ve  वह
बहुत चिंतित थीn कि एक ऐसी उम्र में जहां उन्हें अपनी मां का समर्थन करना चाहिए दुर्भाग्य से शौचालय जाने
के लिए भी उनको अपनी मां का सहारा लेना पड रहा है।
वह लगभग २००८ में एक वानस्पतिक अवस्था में पहुंची, डॉक्टरों ने उन्हें cervical vertigo – सर्वाइकल वर्टिगो
– से पीड़ित होने का निदान किया।  सर्वाइकल स्पाइन एमआरआई Cervical Spine MRI अध्ययनों से पता
चला कि उन्हें सी५ सी६ स्तर पर thecal sac -थीकल सेक – के दबाव के साथ, unka सर्वाइकल डिस्क भी फुला
था | उनको उस दिन से ४ (4) बार स्टुजिरोन दवाई लेने का सलाह दीया गया, बड़ी कठिनाई के साथ दवा लेने
पर अनुपमा जी केवल खुद को देखने कि अवस्था में सक्षम थीं।  यदि दवाई की दैनिक खुराक में देरी हो जाती थी
तो वह फिर से गंभीर सिर का चक्कर कि अवस्था से गुज़रती थी।
५ लंबे साल समाप्त हो गए हैं, लेकिन उनके स्वास्थ्य की स्थिति में  सुधार नहीं हुआ है, तो ५ साल से  पीड़ित होने
के बाद एक शुभ दिन पर वे सुषुम्ना क्रिया योग साधना के बारे में सुने और  सुषुम्ना क्रिया योग के एक सत्र में भाग
लेने के लिए गये । पहले सत्र में वे सुषुम्ना क्रिया योग अभ्यास ७ मिनट करने में असमर्थ रहे, क्योंकि जब भी ध्यान
अभ्यास करने केलिए अपनी आँखें बंद करतीn, उन्हें लगता था कि वे एक बड़े-से-बड़े जायंट वील  से नीचे गिर
रही हैं। लेकिन बड़ी दृढ़ता और ज़िद के साथ उन्होंने सुषुम्ना क्रिया योग का अभ्यास करने कि कोशिश करीं।
जब iske baad डॉक्टर्स उन्हें देखने को मना कर देते Diya, तो उन्होंने सभी कठिनाइयों के बावजूद, सुषुम्ना क्रिया
योग साधना par apni vishwas rakhi | Ve chahthe thi ki अंधी आशा और दृढ़ता के साथ दैनिक रूप से
प्रार्थना karke who guruyon ki aashivaard payengi, aur गुरु unki असहाय अवस्था पर दया करके
किसी भी तरह, unko bhala kar denge | Ve niranthanr apni सुषुम्ना क्रिया योग साधना  जारी रखी |
उनकी आशा, दृढ़ता और उनके सभी प्रयास व्यर्थ नहीं हुए | धीरे-धीरे सफलता आने लगी और सुधार शुरू होने
लगा । वह अधिक सहज और आत्मविश्वास महसूस करती थी और छह महीने में वे २१ मिनट तक ध्यान अभ्यास
बिना किसी कठिनाई से, करना शुरू कर दिये। स्टुजिरोन दवाई भी ३ गोलियां तक लेने लगे, बाद में २ गोलियां
तक और आखिर में उन्होंने सभी दवाइयों को बंद कर दिया। हम सभी के जैसे अब बिना किसी दवाई के  वह बहुत
ही स्वस्थ जीवन जी रही हैं।
हमारे गुरु माता पूज्य श्री आत्मानंदमयी माताजी के  प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करते हुए, ve kehti hain –
“Main Guruyon ka aabhaarmand hun, जो mujhe एक खूंखार चक्कर से मुक्त karaye, jisse main
पांच से अधिक वर्षों से पीड़ित thi और जब डॉक्टरों ने स्थायी उपचार के लिए  कोई उम्मीद नहीं दिखाए।“
अगर हम इनके  समस्या को देखते हैं, तो pata chaltha hai, इनको सी ५ सी ६ स्तर पर थीकल सेक के दबने के
साथ एक ग्रीवा डिस्क का फुलाव hone ke vajeh se, inko yeh pareshani hua था।  आम तौर पर यदि दैनिक
जीवन यापन मुश्किल हो जाता है, तो डॉक्टर सर्जरी के द्वारा इसे ठीक करने का प्रयास करते हैं।   किसी भी समय
रीढ़ की सर्जरी में हमेशा अपनी जटिलताएं होती हैं | लेकिन अनुपमा जी के मामले में बिना किसी सर्जरी के, और
यहां तक कि बिना किसी दवाई के ,६ महीने तक नियमित रूप से सुषुम्ना क्रिया योग ध्यान के अभ्यास के बाद वह

पूरी तरह से अपने वर्टिगो से छुटकारा पायीं , जो एक डिस्क फुलाव से उत्पन्न हुई है  thi और थीकल सेक के दबने
से हुआ है medical condition tha ।  वास्तव में गुरु माता पूज्य श्री आत्मानंदमयी माताजी  के आशीर्वाद के
साथ ये एक चिकित्सा ke shetr में चमत्कार है ।  अपने शिष्यों के प्रति सदैव प्रेम और चिंतन करने के लिए हमारे
गुरु माता पूज्यश्री आत्मानंदमयी माताजी के पावन चरणों को मेरा प्रणाम।

Share.

Comments are closed.