दिन 5 – एक अद्भुत यात्रा कि शुरात

0
यात्रा की शुरुआत से,पवित्र मंडली शुरू हो गया था। हर कोई माताजी
 से दीक्षा पाने के बाद  अपने अद्भुत जीवन के अनुभव बता रहे थे। हालाँकि यह उड़ान, हैदराबाद के बोर्डिंग से लेकर दिल्ली के सामान  एकत्र करने में तक लगभग 3 घंटे की थी, परंतु यह कुछ मिनट जैसे ही लगा। दिल्ली में एक घंटे रुकने के बाद, टीम देहरादून कि कनटिंग फलैट से निकल पड़े, जिसमें एक और घंटा लगा। चुलबुली टीम हवाई अड्डे से बाहर आ गई, जहां पिक-अप वाहन पहले से ही उनका इंतजार कर रहे थे। इसके बाद टीम बाकी शहरों से आनेवालों सदस्यों के लिए इंतजार कर रही थी और जल्द ही मसूरी के लिए रवाना हो गई। देहरादून एक सभ्य आधुनिक जगह है, जहाँ की आकर्षक हरियाली और अलौकिक सुंदरता से किसी का भी मन भर जाएगा। साफ सुधरे सडक, दोनों हरी भरी झाडियों से सुसाजित  थी। बड़े शहरों की चौडी सड़कों के विपरीत, देहरादून की संकीर्ण सड़कों पर, एक असामान्य और निर्मल  उप-शहरी अनुभव है
   उप-नदियों की नदी से संगंम के विपरीत, जैसे नदी का सागर  से विलय, बेमिसाल होता है, ठीक
वैसै ही इन बेखबर धारा रूपी सदस्यों को जागरुक करने इनकी कलपना के परे, इनकी संगम  कुछ अद्वितीय अनुभूतियों से होने ही वाला था।  राह में टीम को एक बहुत ऊंचा पहाड़ दिखाई दिया, जिसकी चोटी बादलों को  कटकर ,मानो आसमान में मूँह छुपाए हो | टीम के आनंद और आश्चर्य की कोई सीमा न रही, जब उनके पायलट ने उन्हें बताया कि उनकी यात्रा उस पहाड़ की चोटी पर खत्म होनी थी। कारों की गति तेज थी और ड्राइवरों ने हर किसी की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए वाहनों को शिष्टता और शीतलता से पेश किया, कि ना तो किसी को नुकसान हुआ , और ना ही किसी को निश्चिंत आराम करनेका अवसर मिला | हर एक राही  अपनी सीटों  पर चिपके, चट्टानों और जंगलों के अद्भुत दृष्यों का सेवन करते हुए मनोरंजित और सुनिश्चित रहे। यह यात्रा सुरम्य  और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ थी, ऊँचे हिमालय के घने झरनों के बीच, औषधीय जड़ी-बूटियों की अनुकूलता और पवित्र गंगा की नमी  हवा में चारों ओर फैली थी। घुमावदार सड़कों की चक्रों ने टीम को उलझा दिया था, जो पहले से ही आश्चर्य चकित, भयभीत और सौम्य हो गयी थी। फिर भी प्राकृतिक सौंदर्यता की गोद अवाम दिव्य माताजी के शरण में टीम की साहस और  शानशीता बनी रही । जैसे-जैसे कार पहाड़ पर चढ रही थी,उनके कानों में ठंडी हवा बज रही थी और हड्डियां भी ठंड में कांप रही थी।रास्ते में ढलान और घाटियाँ पर बसे, चंद बिखरे हुए खूबसूरत घर,काल्पनिक पैंटिंग की तरह दिखाई दिये।अनुभव की सुंदरता, जैसे कि बाद में टीम द्वारा याद किया गया,एक जीवन बदलने वाला अनुभव था।इस यात्रा ने सभी के भीतर चेतना और साधना की सराहना को बढाया।इस तरह के रंगरेलियों ने अपने सद्स्यों को आत्मानंद का झलक दिखाई, और जीवन की अस्थिरता को प्रकाशित करते हुए उनके दिमाग को रोशन किया!
Share.

Leave A Reply