जीवन रेड्डी के अनुभव

0

कई सुषुम्ना क्रिया योगि माताजी से ध्यान में जुड़ने में सक्षम हैं… कई ऐसे होते हैं जो ध्यान में आये अनुभवों के बारे में बात करके उनके संदेहों को दूर करने केलिए माताजी के पास संपर्क करने आते हैं…। कुछ ऐसे हैं जो दूर होने पर भी आध्यात्मिक मार्ग में माताजी से मार्गदर्शन प्राप्त करते हैं …. लेकिन श्री जीवन जी कि आध्यात्मिक वृद्धि काफी चमत्कारी रूप से हुई … जीवन एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है … जो किसी भी चीज़ में थोड़ा विश्वास करना और विशेष रूप से स्थानांतरित नहीं होने वाले व्यक्ति हैं। जब उनके जीवनसाथी श्रीमती वम्शी कृष्णा कुमारी ने कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के कारण सुषुम्ना क्रिया योग का अभ्यास किया … और जब उन्होंने उन्हें उस ऊर्जा प्रवाह के बारे में बताया जो उन्हें अनुभव हो रहा था, तो वे उस बात को अनसुना करदिये। उनकी प्रतिक्रिया जब उनकी पत्नी ने कहा ,“आपको भी ध्यान करना चाहिए। आप आध्यात्मिक रूप से प्रगति करेंगे उन्होंने कहा “तुम करो – मुझे इसकी आवश्यकता नहीं है … “.. एक दिन जब वमशी ध्यान कर रही थी, जीवन, जो उनके-पास बैठ कर काम कर रहे थे, तो उन्हें ठंडी लहरों की तरह कुछ महसूस हुआ। दो बार इस पर गौर करने के बाद, उन्होंने थोड़ा विस्मय से कहा, “वम्शी! जब आप ध्यान कर रहे हों तो मैं भी ऊर्जा महसूस कर रहा हूं। “…” इसका मतलब यह है कि, जीवन भी ऊर्जा प्राप्त करने के लिए तैयार है “… ये बात उन्से एक और सुषुम्ना क्रिया योगी ने कहा … इससे जीवन जी ध्यान करने के लिए सहमत हुए -” ठीक है मैं भी ध्यान करके देखूंगा ” जीवन जी ने कहा।
जब जीवन जी ने वम्शी जी के साथ ध्यान वर्ग में भाग लिये, तो जीवन जी ध्यान पर न केंद्रित करके सेवा पर अधिक ध्यान केंद्रित करे। तिरुपति वर्ग में, माताजी ने श्रीमती विजया जी को उल्लेखन किया था कि जीवन जी की ऊर्जाएँ अच्छी हैं। यह सुनकर जीवन जी आश्चर्यचकित और खुश भी हो गये। तिरुपति गुरु पूर्णिमा के बाद, अपने सपने में जीवन जी ने एक 16 साल के बुजुर्ग योगी को उनके पीछे चलते देखा, उनके कार्यालय में मेज पर देखने के बाद वो योगि खुद को जीवन जी में अदृश्य हो गए। डर के मारे वे दो बार उठे और फिर से उन्हें वही सपना महसूस हुआ। इस घटना के कुछ दिनों के बाद, जीवन में तीन गुरुओं की तस्वीरों के पास एक सफेद साड़ी में एक माताजी बैठी हुई दिखाई दीं ….. जबकि जीवन इन विचारों का क्या मतलब हो सकता था वो सोच रहे थे,तब माताजी ने उन्हें समझाया कि जो एक छाया की तरह उनका अनुसरण किया और उन्में विलीन हो गये वो उनका सूक्ष्म रूप (उनके पूर्व जन्म से)है और वह दिव्य रूप जो पवित्र गुरुओं की ओर से प्रकट हुआ और उसे आशीर्वाद दिया वे श्रीबाबाजी की बहन, श्री नागलक्ष्मी माताजी स्वयं हैं। अपनी संपूर्ण सेवा और अपनी संपूर्ण “ट्यूनिंग” के कारण, जीवन जी वहाँ क्या हो रहा है ,वो सब देखने में सक्षम हुए,यह सब माता जी उन्हें आशीर्वाद देते हुए कहा। जीवन जी ,जो किसी के शब्दों की परवाह नहीं करते थे, उन्हें माताजी का हर शब्द, हर आंदोलन, हर दृष्टि पूजनीय थी। श्री जीवन जी का किसी के प्रति अधिक गहरा संबंध या भावनात्मक लगाव नहीं है … लेकिन माताजी के साथ उनके लगाव में, दिव्य प्रेम, भक्ति और पूजा स्पष्ट है। इसलिए, भले ही आसपास के लोग कितने भी खुश क्यों न हों, फिर भी जीवन जी का ध्यान और एकाग्रता माताजी पर ही होता है। किस तरह के चमत्कार होते हैं ,दिव्य गुरु के आशीर्वाद और निस्वार्थ सेवा के साथ? ’ –वे एक सामान्य स्थिति से नौकरी में एक श्रेष्ठ स्थान, एक अच्छा पैकेज, एक सुंदर घर जो कि सुषुम्ना क्रिया योग केंद्र के रूप में उपयोगी हो सकता है। जीवन जी कहते हैं, कार्यालय में धैर्य और तनाव का सामना करने में सक्षम होने की शक्ति, धैर्य, क्रोध पर नियंत्रण, भौतिकवादी चीजों के साथ दस्ता – ये सभी बदलाव जीवन जी खुद पर महसूस करे। जिन्होंने एक बार एक महंगी कार, घर और सभी के बीच एक बेहतर स्थिति की आकांक्षा करे , अब वो संतुलन पा चुके । जिस कार्य के लिए वे इस धरती पर आये थे, उसे पूरा करने के लिए, लगातार गुरु के संपर्क में रहना और जन्म-मरण के चक्र से बाहर निकलना इस तैंतीस वर्षीय इंजीनियर का लक्ष्य है – और यह एक अतुलनीय पहेली है अनेक के लिए!
उनके पिछले जन्मों के बारे में बताते समय, माताजी ने कहा कि “जीवन कयी जन्मों से एक समान हैं। उनके लिए गुरु हमेशा सर्वोच्च हैं ”, मैंने जीवन की आँखों में ख़ुशी के आँसू देखे (जो किसी भी चीज़ पर प्रतिक्रिया नहीं देते) उनके जीवनसाथी और सुषुम्ना क्रिया योगी श्रीमती वामशी कृष्णा कहती हैं। जीवन जी से मिलने से पहले भी, जब वमशी जी ने सुषुम्ना क्रिया योग में प्रवेश किया, तो किसी ने कहा कि वम्शी अच्छी सेवा करते हैं – “वम्शी जी के पति और अधिक सेवा करेंगे… जब आप हैदराबाद जाएँगे, तो उनसे मिलें – माताजी ने मूर्ति जी को आदेश देते यह बात कही। जीवन जी ने इसके बारे में बहुत समय के बाद जाने जिससे वे आश्चर्यचकित रह गये।
वे कभी ठीक से ध्यान नहीं करते … वे दस मिनट के लिए भी गुरु के चित्रों के सामने खड़ा नहीं होते हैं… माताजी ने कैसे कहा कि जीवन हमेशा उनसे जुड़े हैं ?! वमशी जी भोलेपन से आश्चर्यजनक हुईं। जब एक बार जीवन जी बहुत बीमार हुए, तो माताजी ने उन्हें सपने में दर्शन दिए और एक तेल को लाकर उनकी नाक में दो बूंदें डालकर ,उनके गले पर मालिश करने को कहा। अगले दिन से, जो दवाएं पहले काम नहीं करती थीं, उन्होंने चमत्कारिक रूप से काम करना शुरू कर दिया और जीवन पूरी तरह से ठीक हो गये ।
इस अनुभव के साथ, “जीवन को माताजी के साथ इतनी अच्छी तरह से जुड़े कि माताजी स्वयं उन्हें बचाने के लिए उनके सपने में दिखाई दीं”, यैसे उनके अन्य योगि दोस्तों को एहसास हुआ।
आध्यात्मिकता के किसी भी प्रदर्शन के बिना जीवन जी भौतिकवादी दुनिया से बहुत जुड़े हुए दिखाई देते हैं। श्री श्री श्री आत्मानंदमयी माताजी के लिए, जिन्होंने अपने पिछले जन्मों से संबंध को पहचाना और उन्हें आध्यात्मिकता की बुलंदियों तक खींचा, सब कुछ वे आंतरिक आंखों से जान चुकी है … सुषुम्ना क्रिया योगि, जो इस महत्वपूर्ण बात को,और गुरु के निरंतर निकटता को समझते हैं, वो उनके लिए एक आशीर्वाद है।।

Share.

Comments are closed.