.लक्ष्मी विजेयता के अनुभव

0

बचपन से ही शिरडी वाले साईं बाबा के भक्त होने के कारण, उन्होंने शुद्ध भक्ति के साथ साईं बाबा की पूजा की। एक रात उन्होंने सपने में साईं बाबा के दिव्य दर्शन किए। साईं बाबा उसे मंदिर के परिसर में ले गए जहाँ लंबी सीडियाँ थी। साईं बाबा ने उन्से कहा,
“मैं केवल आपको इस दूर तक लाने में सक्षम हूं, इससे परे आपको अपनी आध्यात्मिक यात्रा में आगे बढ़ने की आवश्यकता है”, मैं आपका गुरु नहीं हूं। तीन महीने की अवधि के बाद आपके असली गुरु आएंगे और आपको दीक्षा देंगे ”साईं बाबा ने कहा। यह कहते हुए उन्होंने उसे आशीर्वाद दिया और अदृश्य हो गये।
निडरता और साहस के साथ, बिना पीछे मुडे, उन्होंने मंदिर की सीढ़ियाँ चढ़ने लगी। मंदिर के शीर्ष पहुंचने के बाद उनको भगवान विष्णु और दिव्य नागों का एक सुंदर दर्शन हुआ था। इसके कुछ समय बाद, तीन महीने की अवधि में साईं बाबा कि भविष्यवाणी सही हुई और उन्हें माताजी कि दिव्य उपस्थिति का आशीर्वाद मिला। माताजी ने उन्हें सुषुम्ना क्रिया योग में दीक्षा देकर, आशीर्वाद देते हुए कहा कि, “आपको अपने जीवन में विवाह के कर्म और धर्म से गुजरना होगा”। इसके तुरंत बाद उसने एक ऐसे व्यक्ति से शादी करे , जो न केवल बहुत सहायक थे, बल्कि आध्यात्मिक विकास और उन्नति के साथ सहज थे।
लक्ष्मी विजेता के मन में ये गहरे अंतर्निहित विचार और सवाल थे। उन्हें हमेशा लगता था कि वे किसी भी चीज़ में सफल नहीं हो सकती, इसलिए, वे आध्यात्मिक रूप से भी कैसे विकसित हो सकेंगी और क्यों उन्हें कोई दिव्य दर्शन प्राप्त नहीं हो रहा था।
सुषुम्ना क्रिया योग में आने के कुछ दिनों के अंदर, उन्हें अद्भुत अनुभव और अद्भुत दृश्य दिखाई दिये। उन्होंने तीन बार साईं बाबा को उनके सजीव रूप में दर्शन किए। उनकि थॉट्स-लेस स्टेट ऑफ माइंड ’में रहने की समझ के लिए ,उनकी आंतरिक खोज ने, उसे समाधि स्थिति के गहरे अर्थ को समझने के लिए प्रेरित किया।
लक्ष्मी विजिता के पास हमेशा दो आँखों की आवृत्ति दृष्टि थी। जब उन्होंने माताजी से सवाल पूछा, तो माता जी ने कहा कि वे उनेके पूर्णात्मा के प्रतीक हैं। फिर आगे बताते हुए उन्होंने कहा कि, ब्रह्मा सभी को बनाते हैं और यही सार्वभौमिक सत्य है। एक पूर्णमात्मा (एक संपूर्ण आत्मा) कुछ अम्सा आत्माओं का निर्माण करता है। जिसने भी आपकी आत्मा को बनाया है, वह है पूर्ण आत्मा जब तक आपकी आत्मा को मोक्ष (मुक्ति) प्राप्त नहीं कराती है, तब तक वह मार्गदर्शन प्रदान कराती है। वे हमेशा आपको मुक्ति के धार्मिक मार्ग (मोक्ष पथम) पर डालने की कोशिश करते हैं। माताजी ने भी लक्ष्मी विजेता को आशीर्वाद देते हुए कहा कि “ध्यान द्वारा तुम खोजोगे कि तुम्हारा पूर्णात्मा कौन है,”। इसलिए माताजी के आशीर्वाद और उनके निरंतर ध्यान से उन्हें एक झरने के पीछे सफेद साड़ी में एक महिला का दर्शन हुआ जिनके लंबे बाल थे। जो दिव्य महिला उनको पूर्णात्मा के रूप में दर्शन दिए, वह कोई और नहीं बल्कि “अरुंधति माता” थी।

माताजी ने सुषुम्ना क्रिया योगिनी को साकार करने के लिए क्या किया? सुषुम्ना क्रिया की अपनी आंतरिक यात्रा के माध्यम से उन्होंने उसे कितना निर्देशित किया? उनका कर्म कैसे समाप्त हो गया और उन्हें अपने पूर्णात्मा का दर्शन कैसे प्राप्त हुआ ?!
एक उच्च सचेत अवस्था में होने के नाते और माँ के जैसे हमारी छोटी उंगली पकडकर , वो दिव्य ज्ञान का सम्पदा क्या है,जो गुरु रूपिणी हमें प्रदान करती हैं। तो और अधिक सीखने की उत्सुकता के साथ, और नए ज्ञान के साथ आइए हम अरुंधति माता की दृष्टि से आगे बढ़ें, जिन्होंने उन्हें अपने पूर्णात्मा के रूप में दर्शन दिए।

Share.

Comments are closed.