मोहित कुमार के अनुभव

0

आज की कॉरपोरेट दुनिया में, युवा पीढ़ी सौभाग्यशाली है कि दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अनुभव कर रहे हैं।  एक
तरफ, वे अच्छे वेतन और जीवन शैली के साथ आर्थिक रूप से स्वतंत्र हैं।  दूसरी ओर, उन्हें किसी की छाँव में
जीने की ज़रूरत नहीं है।  कितना बेहतर होगा अगर ऐसे युवा और गतिशील युवा सुषुम्ना क्रिया योगी बन
जाएं?  चमत्कार होते हैं और यह तब समझा जाएगा जब हम मोहित के अनुभवों के बारे में सुनेंगे।
सुषुम्ना क्रिया योग में अपनी दीक्षा के बाद कुछ दिनों के भीतर, मोहित शानदार दिव्य ऊर्जा का अनुभव करने
में सक्षम था।  ध्यान करते समय, वह अपने शरीर में सहस्रार से शरीर के सभी तंत्रिकाओं में ऊर्जा के प्रवाह को
महसूस कर सका।  उसने देखा  कि उसकी सुषुम्ना नाड़ी लाल रंग में चमक रही थी।  ऊर्जाएँ इड़ा और पिंगला
नाडियों  में प्रवाहित होते दिखाई दी।  यह रीढ़ की हड्डी के ललाट क्षेत्र से पीछे की ओर ऊपर की ओर बढ़ता
गया।  फिर पीछे मुडकर नीचे कि दिशा में बहती  मूलाधार चक्र तक पहुंची,  और एक संपूर्ण त्रिकोण
बनायी ।  फिर, सुषुम्ना के ऊपरी क्षेत्र में, उसने एक सुवर्ण  कमल
को देखा जो अभी भी एक अविकच स्थिति में है।  बाद में, वह समझ गया कि पूर्ण रूप से प्रस्फुटित कमल
भीतर से आध्यात्मिक प्राण शक्ति को जागृत करने का संकेत देता है।  शायद उसे और आध्यात्मिक उन्नति कि ज़रूरत थी,जिसके बाद कली एक पूर्ण विकसित कमल में खिल पायेगी।
एक और अनुभव श्रीशैलम का है। व़ गुरुपूर्णिमा का दिन था, उस दिन यह स्पष्ट हुआ कि सुषुम्ना क्रिया योग
हमारे लिए क्या कुछ कर सकता है। इस दिन, माताजी ध्यान के दौरान हमारे कर्म बीजाओं को जड़ से साफ़
करती हैं। गुरुओं कि आशीर्वाद के बिना , यह प्रक्रिया होने केलिए और हमारे कर्म से छुटकारा पाने के
लिए काफी वक्त लगता है,और शायद कई हजारों साल तक गहरी तपस्या करनी होती है।
उस दिन, ध्यान करते समय, मोहित योग निद्रा में फिसल गया।  घने जंगल में उसके भौतिक शरीर का दर्शन
हुआ, जहां उसने एक शिवलिंग भी देखा।  पास की झील में स्नान करने के बाद, वह शिवलिंग की ओर चलने
लगा।  कहीं से अकस्मात माताजी के दर्शन  हुए।”आप यहाँ कैसे आए माताजी?” उसने पूछा।  एक सुखद
मुस्कान के साथ माताजी ने अपने दिव्य हाथों (जैसे वह उसे आशीर्वाद दे रही थीं) को उसके सिर पर रखा और
शिवलिंग में विलीन हो गईं। उसने सोचा “गुरु सर्वव्यापी हैं” यह अच्छी तरह से जानते हुए,”मैंने इस तरह का
एक मूर्खतापूर्ण प्रश्न कैसे पूछा?”   उसके दिल में थोड़ी उदासी की भावना के साथ, और मन में उस विचार के
साथ वह एक गहरी नींद में चला गया।  फिर, उसने बहुत स्पष्ट आवाज़ में किसी को यह कहते सुना “अपने
पिछले जन्म में तुम्हें अपने गुरु पर पूरा भरोसा नहीं था। यही कारण है कि इस जन्म में, पश्चाताप में तुम्हें
उस गलती के लिए वापस भुगतना पड रहा है ”।  मोहित ने जागने पर महसूस किया कि वोह १५ घंटे तीव्र
निद्रा में सोगया ,उसे यह एहसास हुआ जब वो अपने फोन पर २२ मिस्ड काल्स ,११ मैसेज, आदि देखे। जब
उसने माताजी से यह बात कहा, तो उन्होंने समझाया – “तुम्ने जो देखा वह कुछ सौ साल के पहले श्रीशैलम
प्रांत का था।  कर्म बीज को खत्म करना मुश्किल है… .लेकिन गुरुओं ने आपको १५ घंटे के लिए योग निद्रा में
भेज दिया और कुछ हजार वर्षों के कर्म बीजों को हटा दिया, जो अन्यथा कुछ सौ वर्षों की तपस्या के बाद ही
समाप्त हो सकता है ”।
तत्व: क्या ऐसा कुछ है, जो गुरु की कृपा से असंभव है?

Share.

Comments are closed.