श्री रामचंद्रा जी अनुभव

0

शिरडी साई बाबा रामचंद्राजी कि प्रार्थनाओं के जवाब में, उनके जीवन का उद्देश्य दिखाने के लिए; श्री श्री श्री आत्मानंदमयी माताजी से सुषुम्ना क्रिया योग में दीक्षा प्रत्यक्ष रूप से लेने में सक्षम थे। जब माताजी ने उन्हें “केले लाओ ” करके आज्ञा दी … तो वह कैसे, इस प्रकार बदले, जहाँ पर उनके विचार ऐसे थे कि “क्या माताजी मुझे इन केलों के लिए मुझे पैसे वापस करेंगी?” से उनकी वह समझ तक, कि कई जन्मों से उनको माताजी के साथ बंधन था – और वह उनकी गुरु देवी थी। ध्यान और माताजी – रामचंद्राजी ने इन दोनों से खुद को इतना तल्लीन किया और एक ऐसे मंच पर पहुँचे जहाँ वे माताजी के सोच पर ही, माताजी कि ऊर्जा का अनुभव कर सके।
रामचंद्राजी उन शिष्यों में से एक हैं, जिन्होंने श्री श्री श्री आत्मानंदमयी माताजी के आदेशों को पूरी तरह से स्वीकार किया और कार्यान्वित किया है, हर ध्यानी को ध्यान के साथ-साथ अपनी ज़िम्मेदारियों को सावधानीपूर्वक पालन करना चाहिए, … उनको एक प्रेमपूर्ण प्रदर्शनकारी का प्रदर्शन करते, … सभी से अच्छाई स्वीकार करके और सुखद-आत्मा के लिए काम करना चाहिए ।
रामचंद्रा जी ने माताजी का निर्देश पालन करे – “रामचंद्रा! रोज ध्यान करो। ध्यान का सार समझो!” उन्होंने अत्यधिक अद्भुत अनुभवों का अनुभूति किये। एक पूर्णमी के दिन, ध्यान करने के बाद जब वे प्रकृति का अनवेषण कर रहे थे, तो उन्हें कुछ अजीब सा अनुभव हुआ। हर एक पेड़, बांबी , अन्य चीज़ें – ये सभी प्रकाश के साथ चमकते हुए एक और छवि के रूप में दिखाई देने लगे … उन्हें बिजली के खंभे, इमारतों के साथ भी ऐसा ही समान अनुभव हुआ। “क्या यह एक भ्रम है या सच्चाई ?” उन्होंने सोचा। जब उन्होंने माताजी से पूछा, माताजी ने इस प्रकार समझाया – “इस पृथ्वी पर हर प्राणी और यहाँ तक कि इस पृथ्वी पर हर वस्तु का एक ऊर्जा शरीर होता है। आप उस ऊर्जा क्षेत्र को देख पा रहे थे… जब आप ध्यान में प्रगति करते हैं, तो आप उस ‘आभा ’को भी देख पाएंगे।” इसके बाद रामचंद्रा जी ने ध्यान में पूर्ण विश्वास किया। कुछ दिनों के ध्यान के बाद, वह अपने ध्यान में एक महर्षि को देखने में सक्षम थे। जो महाऋषि उनके सामने थे, वे भृगु महर्षि थे और उन्होंने रामचंद्रा जी को ऊर्जा देने के लिए दिखायी दिये … इस प्रकार माताजी ने उन्हें समझाया। रामचंद्रा जी तब समझ गए थे कि अगर हम ध्यान करेंगे तो हम ऋषियों, योगियों, मुनियों, देव और देवताओं को ध्यान में देख पाएंगे… .एक दिन, रामचंद्रा जी ने सोचा – मैं एक प्रेम से भरा हुआ व्यक्तित्व को देखना चाहता हूं, जिसने अपने शरीर को लोगों केलिए त्यागा जो उस पर विश्वास रखते थे और जो एक नए युग का कारण बने- इस प्रकार सोचकर उन्होंने एक सप्ताह तक ध्यान किया। एक दिन संध्या के समय, एक महान व्यक्ति प्रकट हुआ और उन्हें कुछ बताने लगा। रामचंद्रा जी, वो जो भी बता रहे थे, उसे पुस्तक में लिखना शुरू कर दिये..लिखते समय वो महान व्यक्ति ने कहा “मैं प्यासा हूं! जाओ! मुझे पानी लाओ… वे फिर से आएंगे… ”उन्होंने तुरंत पास के एक पानी के कुंड कि ओर भागे और पानी को हाथ में पकड़ा …और फिर वह ध्यान से बाहर आ गये… उन्होंने जो भी लिखा उन्हें याद नहीं था। उनको संदेह में – “जिस व्यक्ति को मैंने अपनी दृष्टि में देखा था, क्या वो वही व्यक्ति है, जिसे मैं देखने की आकांक्षा कर रहा था?” रामचंद्रा जी संदेह में पड़गये क्योंकि उन्होंने जिस व्यक्ति को ध्यान में देखा वह बहुत प्राचीन व्यक्ति के रूप में प्रतीत हुए। अपनी दृष्टि में वह वर्तमान समय में प्रतिष्ठित एक महान व्यक्ति को देखने की उम्मीद कर रहे थे । संदेह से वे सोचने लगे कि यदि वह माताजी से पूछेंगे तो वह कहेंगी – “तुमने वही देखा जिसे तुम देखने कि कल्पना कर रहे थे” … लेकिन वे उसी दृष्टि के कुछ प्रमाण चाहते थे। संयोगवश, रामचंद्रा जी एक मित्र के फोटो स्टूडियो गए थे और वहां उन्होंने योगदा सत्संग समाज के एक व्यक्ति से मुलाकात की। उस व्यक्ति के पास महावतार बाबाजी, लाहिड़ी महाशय और योगानंद की कुछ तस्वीरें थीं…। और आश्चर्यजनक रूप से उनके पास महात्मा की एक तस्वीर भी थी जिसे उन्होंने ध्यान में देखा था। रामचंद्रा जी ने पूछा कि “वह कौन है?”,वो प्रतिक्रिया जो उन्होंने सुना उससे वे खुशी से फूले नहीं समाये। वह महात्मा, जिसकी उन्होंने कल्पना की थी, वह ईसा मसीहा थे – वे न केवल उन्हें देख पा रहे थे, बल्कि उनसे बात करने में भी सक्षम थे! अगले दिन जब वह माताजी से मिलने गए, “रामचंद्रा! क्या आपको अपना प्रमाण मिल गया? क्या आपका संदेह साफ हो गया?” माताजी ने पूछा। माताजी सर्वज्ञ हैं … और भगवान हैं ..यह रामचंद्राजी को वित्त हुआ।रामचंद्रा जी ने समझा कि ध्यान किसी विशिष्ट धर्म के लिए नहीं है। … सभी धर्मों के लोग ध्यान कर सकते हैं…। अचेतनता असीम है…।
उनका मन जो ध्यान करने से पहले विचारों से भरा था, ध्यान के कुछ दिनों के बाद, उनको केवल ४ या ५ विचार आते थे- विचारों को जितना कम किया जाए, उतना ही ब्रह्मांडीय ऊर्जा हम प्राप्त कर सकते हैं। रामचंद्राजी जो बहुत कमज़ोर थे और जिनका ध्यान शुरू करने से पहले एक नकारात्मक मानसिकता थी, सभी उदासीनता को त्यागने और एक पूर्ण सकारात्मक विचारक में बदलने में सक्षम थे। उन्होंने आत्मनिरीक्षण के माध्यम से यह भी महसूस किया कि उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ गई थी। यह ध्यान तकनीक शरीर और मन दोनों के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करती है। जब माताजी ने समझाया कि लगातार चमकती रोशनी की तरह उसके चारों ओर घूमने वाली सुनहरी अंगूठियां ब्रह्मांडीय ऊर्जा है, तो उन्होंने इसे समझा। जब वो ध्यान में बैठे थे उन्होंने प्रचंड ऊर्जा प्रवाह को उद्भव होते देखा उसके बाद एक संत प्रकट हुए और उनसे कहा, “आपके पास सत्यनारायण व्रतम् पूजा बाकी हैं”। “आप कौन हो प्रभु?!” उन्होंने विस्मय होकर पूछा। जब उन्होंने “सुकरा” प्रतिक्रिया सुनी तो वो चौंक गए। उन्होंने माताजी के प्रति संदेह व्यक्त किया – क्या यह सुकरा (ग्रहाधिपति) थे या क्या यह राक्षस गुरु शुक्राचार्य थे? ”माताजी ने फिर पुष्टि की, कि यह सुकरा, ग्रहादिपति थे। माताजी ने यह भी कहा कि एक जन्म में उन्होंने सत्यनारायण स्वामी व्रत करने का प्रमाण दिया था, लेकिन उनका प्रदर्शन करने से पहले ही उनकि मृत्यु हो गई। “अन्नवरं (दक्षिण भारत में एक क्षेत्र)के पास जाओ और इस वचन को पूरा करो!” माताजी ने आदेश दिया। साथ ही माताजी ने कहा कि “जब ऊर्जा का प्रवाह बहुत अधिक होता है, तो यह संभव है कि सर्वोच्च गुरु या भगवान ध्यान में दिखाई देते हैं या यदि वे प्रकट नहीं होते हैं, तो ऐसा होता है कि उनका संदेश हमें किसी तरह से सूचित किया जाता है …”
रामचंद्रा जी कहते हैं कि ये सभी अद्भुत अनुभव माताजी के दिव्य उपस्थिति के कारण ही संभव था, जो हमारी आत्मबोध प्राप्ति के लिए बहुत परिश्रम करके हमें शक्ति प्रदान करते हैं और लगातार हमें मार्गदर्शन प्रदान करते हैं – यह सब केवल हमारे दिव्य गुरु पूज्यश्री आत्मानंदमयी माताजी के कारण ही संभव हो सकता है करके घोषित करते हैं ,रामचंद्राजी ।
हर एक सुषुम्ना क्रिया योगियों … अपने पिछले जन्मों में अपने कर्मों के अनुसार विभिन्न स्तरों से ध्यान शुरू करते हैं … परमगुरुओं और माताजी कि कृपा के साथ तेज गति से उच्च स्तर तक पहुंचते हैं … यह रामचंद्रा जी के अनुभवों के माध्यम से एक बार फिर ज़ोर दिया गया है।

Share.

Comments are closed.