सत्य सुभा अनुभव

0

सुभा जी अमेरिका में रहने वाली एक उत्कट भक्त और गुरु माता पूज्यश्री अत्मानंदमयी माताजी  के शिष्य हैं।  वह नियमित रूप से संपूर्ण विश्वास और गुरु माता के प्रति संपूर्ण शर्णागत भाव और आत्मसमर्पण के साथ ध्यान करती है।
सिर्फ वह ही नहीं ,उनकी बड़ी बहन सिरीशा जी , उनकी माँ और उनके बच्चे भी बहुत विश्वास के साथ सुषुम्ना क्रिया योग का अभ्यास करते हैं।  दोनों बहनों ने दिव्य बाबाजी सुषुम्ना क्रिया योग फाउंडेशन के  सेवक और अमेरिका में सुषुम्ना क्रिया योग ध्यान फैलाने में, सहायक होने के लिए गुरु माता जी का आशीर्वाद पाया।
सत्य सुभा को गर्भवति होने से पहले सेप्टेट गर्भाशय होने का पता चलता है और उन्हें सर्जिकल रीसेक्शन करवाने को बताया गया।गर्भवती होने से पहले गर्सभाशय का सर्जरी से वे थोड़ा झिझकाए ।उन्होंने उनके पूरे मानसिक शक्ति को इकट्ठा करके सर्जरी केलिये तैयार हुए।आश्चर्य कि यह बात थी कि जब वे उनके डॉक्टर से मिलने गयी ,वे गर्भवती थी। सेप्टैट यूटेरस ऐसा स्थिति है जहाँ पर युटिरिन केविटी विभाजन या दो भागों में  मोटी दीवार द्वारा अलग किया जाता है जिसे यूटेरिन सेप्टं कहा जाता है।  अब यह गर्भावस्था के हर चरण में कई जटिलताओं के साथ एक उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था है। इसमें मेटर्नल जटिलताओं और भ्रूण की जटिलताओं दोनों हैं।  इस स्थिति से पुनरावर्ती गर्भपात या दुर्वहन हो सकता है।  यह अपरिपक्व प्रसव का कारण भी बन सकता है।  यह एंटी-पारटं हेमरेज का कारण बन सकता है जो गर्भावस्था के दौरान रक्तस्रावी रक्तस्राव होता है और इसलिए कि सेप्टम भ्रूण की सामान्य स्थिति में बाधा डालता है। भ्रूण हमेशा एक असामान्य स्थिति है जो सी-सेक्शन की मांग करता है, भले ही यह एक प्रसव से पहले हो। गर्भपात या दूर्वहन  के दौरान गर्भाशय का फिर से निकलना सेप्टं को नुकसान पहुंचाने की जटिलता से जुड़ा हुआ है जो कभी-कभी जीवन को खतरे में डालकर रक्तस्राव का कारण बन सकता है।  सी-सेक्शन में भी इसकी जटिलताएँ हैं।  यदि प्लेसेंटा को सेप्टं पर प्रत्यारोपित किया जाता है, तो प्लेसेंटा को हटाने से कई बार भारी रक्तस्राव होता है, जिससे अनियंत्रित रक्तस्राव होता है, जिससे सिजेरियन हिस्टेरेक्टॉमी नामक गर्भाशय को हटाने की मांग की जाती है।  अब भ्रूण के लिए आम तौर पर क्योंकि गर्भ में जगह प्रतिबंधित है वहाँ भ्रूण की एक अंतर्गर्भाशयी विकास मंदता होगी जो कभी-कभी फाइटोट्स या स्टिलबोर्न शिशु की अंतर्गर्भाशयी मृत्यु का कारण बन सकती है।  इन सभी जटिलताओं को सुभा जी को यूएस में उनके प्रसूति विज्ञानी ने समझाया था।  इसलिए सुभा जी ने अपनी बहन सिरीशा जी को विशाखापतट्नम में रहने के लिए बुलाया और पूरी कहानी सुनाई।  सिरिषा जी उन जटिलताओं की व्याख्यान  गुरु माता पूज्य श्री आत्मानंदमयी माताजी से कहीं जो उनकी बहन  गुजर रही थीं और उनकी मदद के लिए प्रार्थना की।  सुभा जी की सभी अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट (डा.मधुश्री जी)के पास, दूसरी राय लेने के लिए भेजी गई थीं।  मुझे बाद में अमेरिकी प्रसूति विज्ञानि की राय के साथ जाना पड़ा।  एक सुभ दिन सुभा जी भारत में एक प्यारे स्वस्थ बच्चे के साथ भारत में उतरी।  कुछ सेकंड के लिए मैं आश्चर्यचकित हुई, लेकिन जल्दी ही समझ गयी कि चमत्कार हो गया । और एक बड़ा झटका उन्होंने मुझे दिया था कि उन्होंने पूरी तरह से सामान्य असमान गर्भावस्था और एक सामान्य सुरक्षित प्रसव हुआ था।  एक प्रसूतिशास्री के रूप में इसे सुनने पर मेरे पास हमारे गुरु माता परमब्रह्म परम पूज्य श्री आत्मानंदमयी माताजी की प्रशंसा करने के लिए मेरे पास कोई शब्द बाकि नहीं थे।  यह असंभव नहीं है लेकिन असंभव का असंभव सुभा जी के साथ हुआ था।
सेप्टैड गर्भाशय ,एक असमान पूर्ण गर्भावस्था के लिए जाना और प्यारा स्वस्थ बच्चे के साथ कम सामान्य सुरक्षित प्रसव के प्रयास में भारत में उतरना ,निश्चित रूप से जो हुआ है यह असंभव है।  चिकित्सा इतिहास में एक महान चमत्कार। हमारे गुरु माता जी के आशीर्वाद से हुआ है।  बाद में सुभा जी ने यह भी बताया कि उन्होंने हमारे गुरुओं की एक छोटी सी फोटो खींची थी जब वह डिलीवरी के लिए अस्पताल जा रही थी।  उसने अपने वैज्ञानिकों की टीम से गुज़ारिश की  वह अपने साथ गुरुओं की फोटो ले जाने की अनुमति दे।  कर्मचारी उनके अनुरोध पर सहमत होने के लिए पर्याप्त थे।  सुभा जी अपनी डिलीवरी के समय गुरुओं की तस्वीर को पकड़ी रही।  और चमत्कारिक रूप से एक स्वस्थ बच्चे के साथ उनकी सामान्य डिलीवरी हुई।  बाद में प्रसंगकर्ताओं की एक टीम ने टिप्पणी की, कि मैडम कृपया जब भी आप यहां हों, अपनी गुरु जी कि फोटो लाना न भूलें।  यह सिर्फ वे ही नहीं बल्कि किसी भी प्रसूति विशेषज्ञ जो सुभा जी को देखने में भाग लिये, निश्चित रूप से हमारे गुरु माता जी की चमत्कारिक शक्तियों को स्वीकार करेंगे।
पूज्य श्री अत्मानंदमयी माताजी गरु के पवित्र चरणों की सभी धारणाओं और आत्मा समर्पण के साथ,  मैं अपने प्रिय गुरु माता के चरणों को प्रणाम करती हूं।  ओम श्री गुरुभ्यो नमः

Share.

Comments are closed.