श्री बालाजी के अनुभव

0

हम जैसे ध्यानी , हमारे गुरु के पास उपस्थिति या दूर होने पर भी हमें अपने सूक्ष्म शरीर में होने वाले परिवर्तनों के बारे में अनिश्चित एहसास होता है। इसके अलावा, अगर हम अनुशासन से रहे तो अपने सूक्ष्म शरीर रूप में हो रही पारी के बारे में अवगत हो सकेंगे। हमारे सुषुम्ना क्रिया योगी, श्री बालाजी जी का एक चमत्कारी अनुभव है, जिस पर हमारे माताजी की सुरक्षा- कवच के तहत मार्गदर्शन और निगरानी की जा सकती है।
२०१४ वर्ष में, श्री बालाजी ने माताजी से दीक्षा ली, जो हैदराबाद के शिल्पकला वेदिका में आयोजित एक सार्वजनिक वर्ग में हुआ। दस दिनों के नियमित अभ्यास के बाद, एक रात, ध्यान के नियमित अभ्यास के बाद कुछ हुआ। जब बालाजी जी नींद की अवस्था में थे तो उन्होंने ऊर्जा प्रवाह के आध्यात्मिक परिवर्तन का अनुभव किया। उन्हें जो जागृति महसूस हुई, वह उसके शरीर के भीतर से थी। फिर उन्होंने एक छोटे से त्रिकोणीय आकार में एक चांदी के आकार का सर्प देखा, जो उनके मस्तिष्क के क्षेत्र में अदृश्य हो गया।
अलग-अलग स्वामी द्वारा विभिन्न ध्यान कार्यों और तकनीकों को सीखें और अनुभव करने वाले व्यक्ति , ४९-दिवसीय दीक्षा को पूरा करने से पहले,यह उनके लिए एक सुंदर अनुभव था। माताजी से उन्हें कुंडलिनी शक्ति कि जागरुकता का आशीर्वाद मिला।
एक अन्य अवसर पर, माताजी ने उन्हें पद्मावती देवी के रूप में प्रकट हुए। जब उन्होंने माताजी से प्रश्न पूछा, तो उन्होंने बताया कि उनके पिछले जन्म में वे पद्मावती देवी के उपासक थे। इस प्रकार, यही कारण है कि वह पद्मावती देवी के रूप में उनके सामने आईं।
अपने एक ध्यान सत्र में उनको लगातार अपने आसपास कीचड़ का दुर्गंध महसूस होने लगा । और एक ध्यान सत्र करते समय उनको एक दृष्टि को लागू किया जहां वे मोटी जड़ों और एक काले ग्लोब से घिरे हुए थे। तब उन्हें यह हावी हो गया कि गुरुओं ने उनको पृथ्वी के क्षेत्र में ले गये जहां वे उसके साथ एक हो गये थे। एक अन्य अवसर में, जब वह गहरी साँस ले रहे थे तब वे आध्यात्मिक ब्रह्मांड और दिव्य दुनिया से जुड़ चुके थे। वे उन दिव्य दुनिया (दिव्य लोक) के बीच सूक्ष्म यात्रा कर सकते थे, जो एक धन्य अनुभव था।
११ नवंबर २०१६ , कार्तिका पूर्णिमा वर्ग की उस घटना के बाद, उन्होंने अनुभव किया कि उनके शरीर का विस्तार हो गया था। वे एक उच्च ऊर्जा क्षेत्र का महसूस करे, जो विशाल और भारी था। जब उन्होंने ध्यान करने के बाद अपनी आँखें खोलीं, तो उन्होंने एक विशाल नाग को देखा, जिसका फण माताजी के मस्तिष्क के ऊपर छतरी के रूप में फैलाकर रखा था। परमगुरु के ऊपर भी, उन्होंने दूसरा नाग के फण को देखा ।
जैसे उन्होंने सोचा कि क्या माताजी को इस सब के बारे में पता चलेगा, तो माताजी ने उन्हें एक अद्भुत मुस्कान दिये! उस शाम, जब जीवन और वंशी के जोडे ने उन्से कहा था – “लगता है कि आज आप को एक अद्भुत अनुभव हुआ है। माताजी ने हमें बताया है”, बालाजी इस विचार से रोमांचित हो गए कि माताजी को उनके अनुभव के बारे में पता था।
इस प्रकार, अपने भीतर हो रहे आध्यात्मिक विकास को महसूस करते हुए, सोच में पडे कि वह किसके साथ अपने अनुभव को साझा कर सकते हैं। आठ महीने गुजरने के बाद वह माताजी से मिले। तब माता जी ने उन्से पूछा “क्या तुम अपने भीतर हो रहे परिवर्तनों को समझ पा रहे हो? उन्होंने कहा, “तब वे एहसास करे कि वह एक महान गुरु के संरक्षण में थे। उन्होंने जो अनुभव किया और समझा वह यह था कि श्री श्री श्री आत्मानंदमयी माताजी केवल एक प्रदाता ही नहीं बल्कि एक रक्षक, शिक्षक और एक पर्यवेक्षक भी हैं। वह लगातार अपने शिष्यों को उनकी प्राणिक ऊर्जा पहुंचा रही हैं।

Share.

Comments are closed.