वेंकट वेगेस्ना के अनुभव

0

कुछ लोग सुस्त और निर्जीव जीवन जीते हैं … ऐसा लगता है जैसे उन्हें दुनिया से जुड़ी किसी भी चीज़ों में ज्ञान नहीं है और वे जीवन में कुछ भी हासिल करने में असमर्थ हैं। उनके परिवार के सदस्य निराश स्थिति में ईश्वर की ओर आस के साथ मुड़ते हैं और प्रार्थना करते हैं कि वे कुछ नहीं चाहते परंतु वे कुछ तो हासिल करना चाहते हैं। लेकिन, जब गुरुओं की कृपा उन पर हावी होती है, तो माया की परत हट जाती है और उनके भीतर शक्तिशाली आत्मा ऊर्जा जागृत होती है … उन जैसे लोगों के अनुभव असाधारण हैं और ऐसा ही एक व्यक्ति वेंकट हैं।
विजयादशमी के शुभ अवसर पर, वेंकट ने माताजी के दर्शन किए। … जब उन्होंने दूधिया जैसी सफेद आभा माताजी के पीछे देखी, तो उन्हें पता चला कि माताजी कोई साधारण व्यक्ति नहीं हैं।२०१२ में, आदिसंकराचार्य के जन्मदिन पर जब वेंकट ने ध्यान करके सो गए तो उन्हें एक सपने के रूप में एक अद्भुत अनुभव हुआ। लंबे बालों वाली एक बहुत दिव्य महिला कई शिष्यों के साथ दिखयी दियें। उन शिष्यों में उन्होंने गणपावरं के अंजलिजी को भी देखा । वो दिव्य महिला हर एक कि ध्यान स्थिति को जानने केलिए हर घर में जाकर उनकी जांच करते, वें वेंकट के पास आईं और इस प्रकार माताजी के बारे में उल्लेखन किये कि – “वे आठ साल से ऊर्जा के प्रतीक हैं। किसी को भी उनकी आलोचना नहीं करनी चाहिए .. ”। इसके बाद, जब वेंकट ने इसके बारे में माताजी से जाँच करे, तो माताजी ने जवाब दिया – “वे और कोई नहीं, बाबाजी की बहन नागलक्ष्मी माताजी हैं।” बाद में वेंकट ने उनकी तस्वीर देखी और महसूस किया कि जिस माताजी को वे उनकी दृष्टि में देखे , वे वही थी। २०१२ जुलाई में फिर से वेंकट को शिवलोक का दर्शन करने का सौभाग्य मिला… माताजी ने तब उनसे पुष्टि की, कि यह सूक्ष्म तल में स्थित है और वो लोक का नाम “रुद्र” है।
वेंकट को अपने पिता के साथ एक छोटी सी उदासीनता हुई। उस दौरान, वेंकट के पास १८ इंजीनियरिंग विषयों का एक बैकलॉग था… माताजी ने तब उनसे कहा – “वेंकट, मैंने अब तक किसी से भी गुरुदक्षिणा नहीं मांगी। मेरे लिए आपकी गुरु दक्षिणा यह है कि, आप इन विषयों में उत्तीर्ण होना है… .यह आपके पिता के साथ झगड़ा करने का समय नहीं है…। हर सुषुम्ना क्रिया योगी को सब केलिए आदर्श बनना चाहिए और अच्छे व्यवहार का प्रदर्शन करना चाहिए। ”… इस प्रकार माताजी ने उन्हें आशीर्वाद दिया। इसके बाद, माताजी की कृपा से, एक साल के भीतर वेंकट अपने सभी बैकलॉग को साफ करने में सक्षम हुए। २०१३ में, जब सत्संग के बाद वेंकट सो गये, तो उनको श्री भोगनाथ सिद्धार जी की दृष्टि दिखाई दिया, जिन्होंने उनसे कहा कि उनके पास कोई कर्म नहीं है और कुछ छोटे कर्मों को पूरा करने के लिए उन्हें धरती पर आना पडा और वे उनसे कहे कि वो अब इसकेलिए तैयार है … वेंकट को लगा जैसे वह कुछ अद्भुत लोक में था।इस घटना के बाद जब भी वह ध्यान कर रहा था, उन्होंने महसूस किया कि माताजी स्वयं प्रकट हो रही थीं और उनका मार्गदर्शन कर रही थीं।२०१६ के दिवाली के दिन, उन्होंने अपने दिल में श्री महावतार बाबाजी का अनुभव किये और यह भी कि वे बाबाजी के दिल से पैदा हुए … यह अनुभव उन्होंने रात भर महसूस किया था।
इस सुषुम्ना क्रिया योग के कारण, वेंकट नई उपलब्धियों के साथ दुनिया की एक नई धारणा प्राप्त करने में सक्षम थे। माताजी के प्रति मेरी कृतज्ञता अर्पण करता हूँ जो मेरी इस स्थिति का एकमात्र कारण है … वेंकट यह कहते हैं।

Share.

Comments are closed.