वेणु स्रीरंगं के अनुभव

0

: श्री वेणु जी, जो वरंगल से हैं, ने एक सार्वजनिक वर्ग में फरवरी २०१७ में माताजी से दीक्षा ली। तब से, वह नियमित रूप से बड़ी श्रद्धा, भक्ति और समर्पण के साथ ध्यान का अभ्यास करते हैं।
अपने ध्यान के पहले दिन, वे एक छोटे से तारे के साथ एक चमकदार प्रकाश की दृष्टी का अनुभव करे।
अपने ध्यान के कुछ दिनों के भीतर, उन्होंने अपनी जीभ अपने आप अंदर मोड़ते हुए और अलिजिह्वा को छूने का अनुभव किया। उन्हें पता चला कि यह केचरी मुद्रा है और यह कई वर्षों तक निरंतर ध्यान करने के बाद ही संभव होता है। जब उन्होंने महसूस किया कि सुषुम्ना क्रिया योग शुरू करने के बाद वे इस तरह की स्थिति का अनुभव करे , तो इसके प्रति उनका समर्पण तेजी से बढ़ गया है। ध्यान के अपने अभ्यास को जारी रखते हुए, वह अपनी विचार प्रक्रिया में बदलाव, बातचीत करने के तरीके और अपनी गतिविधियों के बारे में जागरूकता से अवगत हुए। उन्होंने खुद को इस तथ्य तक अवगत कराया कि वह एक आत्मा हैं।
तिरुचेंदुर में, गुरुपूर्णिमा पर यज्ञ के दौरान, सभी सुषुम्ना क्रिया योगी पूज्यश्री आत्मानंदमयी माताजी के साथ समुद्र तट पर गोल आकार में बैठे थे और पूज्यश्री आत्मानंदमयी माताजी उस गोल आकर के बीच में बैठकर यज्ञ प्रक्रिया कर रहे थे । यज्ञ प्रक्रिया के समय में उनके ध्यान में, एक सुंदर दृष्टि दिखाई दिया। उन्होंने उस दृश्य में देखा कि समुद्र के बीच से एक कमल खिला जो धीरे-धीरे पूरे महासागर को व्यापक करा। वह उस कमल के बीच में जीवंत पूज्यश्री आत्मानंदमयी माताजी को देख सके । दीप्तिमान पूर्णिमा माताजी की बिंदी बन गई, एक तारा ने उनकी नाक का नथुनी बनगया और एक विशाल श्रीचक्र ने माताजी से निकलने वाली ऊर्जाओं से आकार लिया। उस श्रीचक्र रंगीन आभा के रूप में ऊर्जा का उत्सर्जन किया। इस बीच , माताजी हरयोगी को आशीर्वाद दे रहे थे जो उस तट पर ध्यान कर रहे थे। वेणु जी कहते हैं कि वह अपने जीवन के इस खूबसूरत अनुभव को कभी नहीं भूल सकते हैं।
यह एक आम लोगों कि गलतफहमी है कि केवल जो लोग हमेशा माताजी के करीबी होते हैं उन्हें ही कई अद्भुत अनुभव होते हैं। वास्तव में दृष्टी,सांगत्य और आशीर्वाद उन लोगों द्वारा अनुभव किया जाता है ,जो पूरी तरह से आत्मसमर्पण करते हैं और खुद को निष्ठापूर्वक रहते हैं। वेणु जी के अनुभव से यह तथ्य पुनः स्थापित हुआ है।

Share.

Comments are closed.