विजया माधवी के अनुभव

0

ध्यान एवं गुरु – हम स्वीकृत नहीं कर सकते हैं कि ये सभी समानत्व रूप में सभी केलिए काम नहीं कर सकते हैं, इसका कारण यह है कि हर एक का ऊर्जा क्षेत्र अलग-अलग होते हैं… आभा भी एक ही स्थिति में नहीं होते हैं। हर एक को जो कुछ उनके लिए उपयुक्त है उसी का पालन करना चाहिए,परंतु विज्ञापनों से प्रभावित नहीं होना चाहिए – यह एक महान संदेश है जिसे हम माधवीजी के अनुभव से सीख सकते हैं।
बचपन से ही, माधवीजी को ध्यान में बहुत रुचि थी और इसलिए, एक मेडिटेशन ग्रुप में शामिल हो गईं। गुरु और भक्ति के मार्ग में उनकी माँ भी थीं – उन्हें स्वाभाविक रूप से यह आभास होता था कि सभी मार्ग और सभी गुरु उत्तम है ।लेकिन उस ध्यान प्रक्रिया के कारण उन्हें तनाव, भय और चिंता बढ़ने का महसूस होने लगा… .. छह महीने के आंदर वह अवसाद में चली गई। जब एक डॉक्टर से परामर्श किया गया, तो उन्होंने उनसे मध्यस्थता को तुरंत रोकने की सलाह दी – यह सुनकर वे भय-भीत हो गये और पूरी तरह से उस ध्यान के मार्ग से बाहर निकल आईं। धीरे-धीरे वे वापस सामान्य होने लगी। कुछ समय बाद उन्होंने स्वास्थ्य संबंधी ध्यान शुरू किया लेकिन उससे वे पूरी तरह से संतुष्ट महसूस नहीं कर सकी। माधवीजी ने सुषुम्ना क्रिया योग का अभ्यास करने कि एक साल बाद अनुभव किया कि उनकी स्वास्थ्य, परिस्थितियों और आध्यात्मिक प्रगति में उल्लेखनीय सुधार हुआ है।
इस प्रक्रिया में कई लोगों से बात करने और अनुभवों को सुनने के बाद, उन्होंने महसूस किया कि कुछ ध्यान ,ऊर्जा केंद्रों को नुकसान पहुंचा सकते है और कई प्रकार की बीमारियाँ, परेशान विचारों को जन्म दे सकते हैं और तंत्रिका तंत्र को नुकसान पहुंचा सकते हैं। ध्यान सर्वोच्च है! करके , सभी तरह के ध्यान का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए, भले ही इसका मतलब है कि अभ्यस्त किसी भी तरह का अनुभव न हो… .. तंत्रिका तंत्र में एक अपरिवर्तनीय क्षति हो सकती है – माधवीजी को यह एहसास हुआ। माधवीजी कहती हैं, ” मैं सौभाग्यशाली थी कि मैंने किसी भी बुरा परिणाम भुगतने से पहले सुषुम्ना क्रिया योग का रास्ता चुना ।” मेरे अनुभव में, गुरु के साथ हमेशा भौतिक रूप में हमारे साथ रहने की कोई आवश्यकता नहीं है… .गुरु हमेशा हमारे अंदर, हमारे साथ… हमें “गुरु भाव” की आवश्यकता होनी चाहिए – इसका पालन सभी सुषुम्ना क्रिया योगियों को करना चाहिए, माधवीजी कहती हैं।
श्रृंगेरी के धर्मस्थल क्षेत्र में एक रामालयं पर माताजी सबसे ध्यान करवाते समय ,माधवीजी ने माताजी से जबरदस्त कंपन का अनुभव किया और अपनी आँखें बंद नहीं कर पायीं। उन्होंने अनुभव किया कि माताजी के स्पंदन उनकी आँखों में आग की ज्वालाऐं जैसे जा रहे हैं और साथ ही बाबाजी की “उर्धवदृष्टि” (सांभवि मुद्रा)का भी अनुभव किये। उन्होंने अपने शरीर पर नियंत्रण खो दिये और महसूस किया कि वह एक गहरी ध्यान अवस्था में जा रही हैं।वे गहरी ध्यान अवस्था से बाहर नहीं आ पाती, जब तक विजयनगरं के पार्वतीजी उनको कंधे पर दोहन नहीं किया होता। उस स्थिति में वे उनके नाम, विवरण और उसके अस्तित्व से पूरी तरह से अनभिज्ञ हो गयी। इस अद्भुत अनुभव के बाद और माताजी कि कृपा से माधवीजी गहरे ध्यान में जाने में सक्षम हुईं। वह एक ध्यानी है, जो एक दिन केलिए भी ध्यान नहीं रोक सकेंगी। माधवीजी के अनुभवों से पता चलता है कि कैसे ध्यान के तरीकों को चुनना कितना महत्वपूर्ण है जो भलाई, सुरक्षा, प्रशिक्षण, स्वास्थ्य और आध्यात्मिकता को सुनिश्चित करता है।

Share.

Comments are closed.