श्रीदेवीजी देविसेट्टी

0

भौतिकवादी दुनिया में,एक गृहिणी का जीवन जीते ,श्रीदेवी जी बहुत ही सरल उम्मीद और विचारों के साथ वित्तीय परेशानियों के बीच थीं। ८ वर्षों से सषुम्ना क्रिया योग अभ्यास से , उनकी माँ खुद कि बीमारी को दूर करने में सक्षम थी, उनका व्यापार सौ गुना बढ़ गया था, उनका बेटा जिसको औसत अंक प्राप्त किया उसने अच्छे अंकों के साथ इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करा और श्रीदेवी जी ने कुछ दिव्य दर्शन भी प्राप्त किये। “आत्मनिरीक्षण” के कारण, जो कि साधना का एक हिस्सा है, उन्होंने अपने व्यक्तित्व में संशोधन किए, … आत्म-आत्मनिरीक्षण के दैनिक अभ्यास के साथ, वे अपने विचारों को उनके रोज़ के कामों में लागू करने में सक्षम थी जो वह कर रही थी। वे उसी तरह के कार्य करना चाहते थे जिससे उनको आत्मानुभूति और आत्मा-उत्थान प्राप्त कर सके। इस स्थिति तक पहुंचन पाना सच्च में एक अद्भुतता है।
श्रीदेवीजी ने २०१० फरवरी में सुषुम्ना क्रिया योग अभ्यास शुरू किया। वे क्रिया योग करने में संतृष्ट हुए और वे “एक योगी की आत्मकथा” पुस्तक पढ़ने के बाद उन्हें सौभाग्यशाली से सुषुम्ना क्रिया योग में पार्वतीजी के द्वारा दीक्षा लिये । ध्यान शुरुआत करने के दिनों में ही, उनको ध्यान में श्री श्री श्री भोगनाथ महर्षि जी तीन बार दर्शन दिये और उनसे कहे – “यह क्रिया योग है, जिसे आप लंबे समय से सीखना चाहते थे” । सुगंधित विस्तार के साथ गुरु के दर्शन एक शानदार अनुभव थे। एक बार ध्यान के दौरान, उनके शरीर के प्रत्येक भाग में, साधु भरे हुए थे, गुरुओं ने उनकी उपस्थिति दिखाकर, वे सभी भोगनाथ महर्षि जी में विलीन होते उन्होंने देखा । “ओह! उन्हें परम गुरु कहना चाहिए! ”- उन्होंने यह सोचा। पार्वती जी ने जब उनसे कहा कि सुषुम्ना क्रिया योग के साथ, किसी भी तरह की बीमारी ठीक हो सकता है। तब श्रीदेवीजी ने इस क्रिया योग को अपनी माँ को सिखाया, जो बी पी, शुगर, स्तन कैंसर और हृदय की समस्या से पीड़ित थीं। सभी परिवार के सदस्यों ने सुषुम्ना क्रिया योग का अभ्यास करना शुरू कर दिया – उनकी माँ के स्वास्थ्य में आश्चर्यजनक सुधार हुआ और परिवार के अन्य सदस्यों को अपनी स्थितियों में सुधार के साथ कुछ सुंदर अनुभव भी हुए। “मुझे इस सुषुम्ना क्रिया योग को दूसरों को भी सिखाना चाहिए” – इस गहरी भावना के साथ और माताजी के आशीर्वाद से, श्रीदेवीजी ने वैज़ाग में एक सार्वजनिक क्लास किया। स्वयं भगवान शिव जी और पार्वती माता ने उनके पुत्र को रुद्राक्ष माला से आशीर्वाद दिये ।उनका मानना है कि – इस प्रस्तुति के माध्यम के साथ गुरुओं ने उनके परिवार को एक सुरक्षा जाल में रखा ।२०१८ में, मानस सरोवर यात्रा को जाने का उनका इरादा कुछ कारणों से बाधित हो गया था। एक सोमवार को अमावस्या के दिन, जब श्रीदेवीजी ध्यान कर रही थीं, उन्हें हाथों में त्रिशूल, रूद्राक्ष, कमंडल, माला और कंबल के साथ भगवान शिव जी के दर्शन हुए । “मुझे देखने के लिए हिमालय नहीं आना पड़ेगा” – उन्होंने इन शब्दों को सुना और स्तब्ध रह गयी और उनको संदेह आया,कि क्या यह उनका भ्रम है। मेरे जैसे सामान्य व्यक्ति को इस तरह से परमात्मा के स्वरूप कैसे दर्शन हो सकते हैं।
जैसे ही उन्होंने इस प्रकार सोचा, उनको भगवन के चरणों से सिर तक एक दिव्य प्रकाश दिखाई दिया था और भगवान शिव श्री चक्र मुद्रा के साथ बैठे थे और श्रीदेवीजी को संकेत दिये – “इस मुद्रा के कारण, आप मुझे देख सक रहे हो और मुझसे बात भी कर सकते हो । यह सब मुद्रा का प्रभाव है” यह दिव्य दृष्टि लगभग दो घंटे तक जारी रही – यह सिर्फ माताजी के आशीर्वाद के कारण हुआ, श्रीदेवीजी कहती हैं।
“मैं एक अच्छी व्यक्ति हूं – दयालु, सौम्य और दयालु” श्रीदेवीजी जिन्होंने इस प्रकार अपने बारे में सोचा था, “आत्मनिरीक्षण” की प्रक्रिया के साथ बहुत सारे अनावश्यक विचारों से दूर रखने में सक्षम थे। जो भी सोचता है कि
मैं एक सामान्य इंसान हूँ , मैं इस सर्वोच्च सुषुम्ना क्रिया योग को कैसे समझ पाऊँगा ?! – जो भी इस तरह सोचता है, उनके लिए श्रीदेवीजी के अनुभव सूरज के किरण हमें छूने के समान हैं।इस भौतिक प्रपंच में ऐसे अनुभव और विजयता बहुत ज्ञान प्रदान करता है।

Share.

Comments are closed.